728x90 AdSpace

Latest News

माँ को समर्पित है ये एकलौता गीत

" ओ माँ "
तू कितनी अच्छी है तू कितनी भोली है
प्यारी-प्यारी है ओ माँ ओ माँ
ये जो दुनिया है ये बन है काँटों का
तू फुलवारी है ओ माँ ओ माँ
तू कितनी अच्छी ...
दूखन लागीं माँ तेरी अँखियाँ -२
मेरे लिए जागी है तू सारी-सारी रतियाँ
मेरी निंदिया पे अपनी निंदिया भी तूने वारी है
ओ माँ ओ माँ
तू कितनी अच्छी ...
अपना नहीं तुझे सुख-दुख कोई -२
मैं मुस्काया तू मुस्काई मैं रोया तू रोई
मेरे हँसने पे मेरे रोने पे तू बलिहारी है
ओ माँ ओ माँ
तू कितनी अच्छी ...
माँ बच्चों की जाँ होती है -२
वो होते हैं क़िस्मत वाले जिनकी माँ होती है
कितनी सुन्दर है कितनी सुशील (?) 
है न्यारी-न्यारी है
ओ माँ ओ माँ
तू कितनी अच्छी ... 


......जय श्री कृष्ण......
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

1 comments:

Item Reviewed: माँ को समर्पित है ये एकलौता गीत Description: Rating: 5 Reviewed By: Ashish Shukla
Scroll to Top